PM Kisan Yojana : किसानो के लिए निकल कर आई बड़ी खुशखबरी , जल्द जारी होगी 12वी क़िस्त

पीएम किसान योजना: अगर आप योजना की किस्त की स्थिति की जांच करना चाहते हैं, तो सरकारी वेबसाइट पर जाएं। फिर किसान कॉर्नर में जाकर लाभार्थी की स्थिति देखें।

पीएम किसान 12वीं किस्त अपडेट

अगर आप पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं तो यह खबर आपके काम की है। इस योजना की 12वीं किस्त का पैसा सरकार जल्द जारी कर सकती है। पीएम किसान सम्मान निधि योजना मोदी सरकार के किसानों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण सामाजिक योजना है, जिसके माध्यम से सरकार हर साल किसानों के खातों में 6,000 रुपये ट्रांसफर करती है।

PM Kisan Scheme 2022

अब पीएम किसान योजना की 12वीं किस्त से जुड़ा एक बड़ा अपडेट आया है। सरकारी पीएम योजना की पहली किस्त अप्रैल से 31 जुलाई 2022 तक, दूसरी किस्त सितंबर से नवंबर के बीच और तीसरी किस्त 1 दिसंबर से 31 मार्च 2022 के बीच जारी की जाएगी. (पीसी: पीटीआई)

ऐसे में पीएम किसान योजना की 12 किस्तों का पैसा 1 सितंबर, 2022 को किसानों के खाते में ट्रांसफर किया जा सकता है. इसकी अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन जल्द ही सरकार ऐसा कर सकती है.

पीएम किसान योजना के तहत ई-केवाईसी की प्रक्रिया पूरी नहीं करने वालों को 12 किस्तों का लाभ नहीं मिलेगा। इससे पहले भी बिना केवाईसी के किसानों के खातों में 11 किस्तों का पैसा ट्रांसफर नहीं किया गया है.

अगर आपके किसान सम्मान निधि आवेदन में कोई गड़बड़ी है तो आप इसे ठीक करने के लिए पीएम किसान सम्मान निधि योजना हेल्पलाइन नंबर 155261 या 1800115526 (टोल फ्री) या 011-23381092 नंबर पर कॉल कर सकते हैं। इसके अलावा आप योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन में की गई गलतियों को सुधार सकते हैं।

अगर आप योजना की किस्त की स्थिति की जांच करना चाहते हैं, तो योजना की वेबसाइट पर जाएं। फिर किसान कॉर्नर में जाकर लाभार्थी की स्थिति देखें। इसके बाद आप अपना आधार और मोबाइल नंबर डालकर अपनी किस्त का स्टेटस चेक कर सकते हैं।

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने क्या कहा?

सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने जानकारी देते हुए बताया कि अब तक 3 करोड़ से ज्यादा लोग इस योजना का लाभ उठा चुके हैं. वहीं, सरकार ने इस योजना की क्रेडिट गारंटी को भी 4.5 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 5 करोड़ रुपये कर दिया है।

यह ऋण किसको दिया जाता है

यह ऋण किसानों को कृषि और संबद्ध गतिविधियों की कार्यशील पूंजी की आवश्यकता को पूरा करने के लिए 79% प्रति वर्ष की दर से दिया जाता है। पहले यह कर्ज सिर्फ खेती करने वाले किसानों को दिया जाता था। बाद में पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन जैसे व्यवसाय में हाथ आजमाने वाले किसानों को भी इसका लाभ दिया जाता है।

कृषि में बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

माना जा रहा है कि सरकार के इस फैसले के बाद किसान क्रेडिट कार्ड के जरिए कर्ज लेने वाले किसानों की संख्या में इजाफा होगा। इसके इस्तेमाल से किसान अपनी खेती और खेती में सुधार कर सकेंगे, जिससे इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। हाल ही में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने भी इस बात की जानकारी दी.

सीमांत किसानों को मिलेगी सरकार से राहत

  • रेपो रेट में बदलाव से ब्याज दरें बढ़ी हैं, जिससे किसानों को फिर से मदद की जरूरत है
  • किसानों को 7 फीसदी पर ही कर्ज देंगे बैंक, डेढ़ फीसदी ब्याज देगी सरकार

Recent Post

Leave a Comment

Your email address will not be published.